Monday, 18 July 2016

Shree Krishna Janmashtami Story in Hindi / Importance of Janmashtami Hindi {*2016}

Posted by Gaurav Belwal
shree krishna story in hindi pdf, janmashtami short essay, krishna janmashtami lines, short note on krishna janmashtami, Shree Krishna Janmashtami 2016 Story in Hindi, Importance Of Janmashtami Hindi 2016.


If you are searching for shree krishna story in hindi pdf, janmashtami short essay, krishna janmashtami lines, short note on krishna janmashtami, Then you are in the right place.
 The birthday of Hinduism's favorite Lord Krishna is a special occasion for Hindus, who consider him their leader, hero, protector, philosopher, teacher and friend all rolled into one.
Krishna Janmashtami 2016
Krishna took birth at midnight on the ashtami or the 8th day of theKrishnapaksha or dark fortnight in the Hindu month of Shravan (August-September). This auspicious day is called Janmashtami. Indian as well as Western scholars have now accepted the period between 3200 and 3100 BC as the period in which Lord Krishna lived on earth. Read about the story of his birth.
How do Hindus celebrate Janmashtami? The devotees of Lord Krishnaobserve fast for the whole day and night, worshipping him and keeping vigil through the night while listening to his tales and exploits, recite hymns from the Gita, sing devotional songs, and chant the mantra Om namo Bhagavate Vasudevaya.
Krishna's birthplace Mathura and Vrindavan celebrate this occasion with great pomp and show. Raslilas or religious plays are performed to recreate incidents from the life of Krishna and to commemorate his love for Radha.
Various arrangements are made to take care of the necessities of the pilgrims who visit the temple on this day and to ensure their security. Thousands of devotees visit the temple on the day of Janmashtami to be a part of the festivities.
Days of preparation finally culminates into the grand ceremonial bathing of the Lord at the stroke of midnight. The utsava Deities of Sri Radha Krishnachandra are anointed with fragrant oils and are bathed with auspicious items like milk, yogurt, ghee, honey, sweet water and fresh juices. They are then smeared with turmeric paste and bathed in Ganges water. Varieties of flowers are showered until the Deities are submerged in the soft bed of flowers.

Shree Krishna Janmashtami Story in Hindi

भाद्रपद कृष्ण अष्टमी को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कहते हैं, क्योंकि यह दिन भगवान श्रीकृष्ण का जन्मदिवस माना जाता है। इसी तिथि की घनघोर अंधेरी आधी रात को रोहिणी नक्षत्र में मथुरा के कारागार में वसुदेव की पत्नी देवकी के गर्भ से भगवान श्रीकृष्ण ने जन्म लिया था। यह तिथि उसी शुभ घड़ी की याद दिलाती है और सारे देश में बड़ी धूमधाम से मनाई जाती है।'द्वापर युग में भोजवंशी राजा उग्रसेन मथुरा में राज्य करता था। उसके आततायी पुत्र कंस ने उसे गद्दी से उतार दिया और स्वयं मथुरा का राजा बन बैठा। कंस की एक बहन देवकी थी, जिसका विवाह वसुदेव नामक यदुवंशी सरदार से हुआ था। एक समय कंस अपनी बहन देवकी को उसकी ससुराल पहुंचाने जा रहा था।

रास्ते में आकाशवाणी हुई- 'हे कंस, जिस देवकी को तू बड़े प्रेम से ले जा रहा है, उसी में तेरा काल बसता है। इसी के गर्भ से उत्पन्न आठवां बालक तेरा वध करेगा।' यह सुनकर कंस वसुदेव को मारने के लिए उद्यत हुआ।

तब देवकी ने उससे विनयपूर्वक कहा- 'मेरे गर्भ से जो संतान होगी, उसे मैं तुम्हारे सामने ला दूंगी। बहनोई को मारने से क्या लाभ है?'
कंस ने देवकी की बात मान ली और मथुरा वापस चला आया। उसने वसुदेव और देवकी को कारागृह में डाल दिया।

वसुदेव-देवकी के एक-एक करके सात बच्चे हुए और सातों को जन्म लेते ही कंस ने मार डाला। अब आठवां बच्चा होने वाला था। कारागार में उन पर कड़े पहरे बैठा दिए गए। उसी समय नंद की पत्नी यशोदा को भी बच्चा होने वाला था।

उन्होंने वसुदेव-देवकी के दुखी जीवन को देख आठवें बच्चे की रक्षा का उपाय रचा। जिस समय वसुदेव-देवकी को पुत्र पैदा हुआ, उसी समय संयोग से यशोदा के गर्भ से एक कन्या का जन्म हुआ, जो और कुछ नहीं सिर्फ 'माया' थी। जिस कोठरी में देवकी-वसुदेव कैद थे, उसमें अचानक प्रकाश हुआ और उनके सामने शंख, चक्र, गदा, पद्म धारण किए चतुर्भुज भगवान प्रकट हुए। दोनों भगवान के चरणों में गिर पड़े। तब भगवान ने उनसे कहा- 'अब मैं पुनः नवजात शिशु का रूप धारण कर लेता हूं।

तुम मुझे इसी समय अपने मित्र नंदजी के घर वृंदावन में भेज आओ और उनके यहां जो कन्या जन्मी है, उसे लाकर कंस के हवाले कर दो। इस समय वातावरण अनुकूल नहीं है। फिर भी तुम चिंता न करो। जागते हुए पहरेदार सो जाएंगे, कारागृह के फाटक अपने आप खुल जाएंगे और उफनती अथाह यमुना तुमको पार जाने का मार्ग दे देगी।'
उसी समय वसुदेव नवजात शिशु-रूप श्रीकृष्ण को सूप में रखकर कारागृह से निकल पड़े और अथाह यमुना को पार कर नंदजी के घर पहुंचे। वहां उन्होंने नवजात शिशु को यशोदा के साथ सुला दिया और कन्या को लेकर मथुरा आ गए। कारागृह के फाटक पूर्ववत बंद हो गए।

अब कंस को सूचना मिली कि वसुदेव-देवकी को बच्चा पैदा हुआ है।

उसने बंदीगृह में जाकर देवकी के हाथ से नवजात कन्या को छीनकर पृथ्वी पर पटक देना चाहा, परंतु वह कन्या आकाश में उड़ गई और वहां से कहा- 'अरे मूर्ख, मुझे मारने से क्या होगा? तुझे मारनेवाला तो वृंदावन में जा पहुंचा है। वह जल्द ही तुझे तेरे पापों का दंड देगा।' यह है कृष्ण जन्म की कथा।

Conclusion


Stay connect with us for Shree Krishna Janmashtami 2016 Story in Hindi, Importance Of Janmashtami Hindi 2016.
Happy Krishna Janmashtami Songs and Bhajans 2016

I hope you will love this article. So share this article with your family and friends.

I would like to know how will you celebrate this festival in the comment section.

0 comments:

Post a Comment